सिप इन्वेस्टमेंट इन हिंदी | SIP Investment in Hindi

सिप इन्वेस्टमेंट क्या होता है

सिप इन्वेस्टमेंट इन हिंदी: सिप इन्वेस्टमेंट का फुल फॉर्म है सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) इसके जरिए से आप म्युचुअल फंड स्कीम में आसानी से और स्मार्ट तरीके से इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं। और इन्हीं चीजों की वजह से सिर्फ इन्वेस्टमेंट प्लान बहुत ही चर्चित है।

सिप इन्वेस्टमेंट इन हिंदी

SIP इन्वेस्टमेंट के जरिए आप नियमित रूप से म्युचुअल फंड में इन्वेस्ट कर सकते हैं। आप सिप इन्वेस्टमेंट में ₹500 से भी इन्वेस्ट कर सकते हैं। इस इन्वेस्टमेंट को आप Weekly, Monthly, Quarterly, Yearly बेसिस पर भी इन्वेस्ट कर सकते हैं।


SIP के प्रकार

फिक्स्ड एसआईपी

फिक्स्ड एसआईपी में, निवेशक कुछ समय अंतराल पर निवेश करते है, जैसे मासिक या तिमाही तौर पर एक निवेशक निवेश करते हैं। फिक्स्ड एसआईपी में आपको फाइनेंशियल डिसीप्लिन की आदत लगती है। स्थिर इनकम वाले लोगों के लिए यह बहुत बढ़िया है।

फ्लेक्जिबल एसआईपी

फ्लेक्जिबल एसआईपी निवेशक अपने फाइनेंशियल कंडीशन के हिसाब से एसआईपी राशि या आवृत्ति को एडजस्ट करते हैं। इस एसआईपी में निवेशकों के जरूरत के हिसाब से बढ़ाने, घटाने या रोकने की स्वतंत्रता मिलती है।

टॉप-अप एसआईपी

टॉप-अप एसआईपी में निवेशक समय-समय पर अपनी एसआईपी की राशि को बढ़ा सकते हैं। जो व्यक्ति भविष्य में अपनी इनकम को बढ़ाना चाहते हैं उन व्यक्तियों के यह एसआईपी लिए उपयोगी है।

स्थायी एसआईपी

इस एसआईपी में, अपने निवेश की अंतिम तारीख निवेशक निर्धारित नहीं करते है। जब तक निवेशक इसे रोकना नहीं चाहता यह तब तक अनिश्चित काल तक चलती रहती है। लॉन्ग-टर्म निवेशकों के लिए यह एसआईपी उपयुक्त रहती है।

स्टेप-अप एसआईपी

स्टेप-अप एसआईपी में निवेशक कम राशि के साथ शुरुआत करते है और फिर समय-समय पर इसे बढ़ाते रहते है, यह वह निश्चित अंतराल पर करता है या वेतन में वृद्धि होने के बाद करता है।


SIP के फायदे

कम निवेश राशि

SIP में आप हर महीने ₹500 जमा करके भी अपनी इन्वेस्टमेंट शुरू कर सकते हैं। SIP में इन्वेस्टमेंट करने के लिए आपको कोई बढ़ि राशि की जरूरत नहीं होती। इस छोटी राशि से ही आप अपनी SIP स्टार्ट कर सकते हैं और बाद में इसे बाद भी सकते हैं।

अनुशासन और नियमित निवेश

SIP में आप मासिक, तिमाही या छमाही पैसा निवेश करते हैं इसके कारण आपको अनुशासित निवेश की आदत पड़ती है सब के तहत आप निश्चित रूप से बचत करना सिखाते हैं।

बाजार में उतार-चढ़ाव से बचाव

जब भी आप SIP से समय-समय पर निवेश करते हैंतो आपको रूपी एवरेज कॉस्ट का फायदा मिलता है। यानी अगर आपने मार्केट में मंदि के समय अपना पैसा निवेश किया है तो आपको ज्यादा यूनिट्स और अलॉट होंगे।

और अगर तेजी में इन्वेस्ट किया तो आपको यूनिट्स की कम संख्या प्राप्त होगी। इस उतार चढ़ाव की स्थिति में आपका खर्चा औसत बना रहता है। यानी अगर मार्केट में गिरावट भी आ जाती है तो आपकोभी लॉस नहीं होता है।

लंबी अवधि में धन निर्माण

SIP लंबे समय तक की जानी चाहिए क्योंकि शिप में कंपाउंडिंग का फायदा मिलता है आप जितने लंबे समय के लिए SIP करेंगेउतना ही कंपाउंडिंग का फायदा आपको मिलेगा कंपाउंडिंग के जरिए आपको मिलने वाले रिटर्न पर भी रिटर्न मिलता है।

फ्लैक्सिबिलिटी रहती है

SIP के जरिए निवेश करने में फ्लैक्सिबिलिटी रहती है आप अपनी सुविधा के अनुसार निवेश की अवधि तय कर सकते हैं जैसे मासिक तिमाही या जमाई का ऑप्शन चुन सकते हैं और आपको जब भी जरूरत पड़ने पर इसे रोक कर SIP से पैसा निकाल सकते हैं।


SIP के नुकसान

छोटी रकम का निवेश करे

आपको SIP में निवेश करते समय दयँ रखे की बड़ी रकम से निवेश न करे छोटी रकम से निवेश करे। क्योंकि अगर आप छोटी रकम से निवेश करते है तोह आप लम्बे समय तक निवेश कर पाएंगे।

बड़ी रकम से निवेश करने पर पैसे की कमी के कारन आपकी SIP ब्रेक भी हो सकती है। और बादमे आपको कम मुनाफा मिलता है।

मार्केट में स्ट्रैटेजी बनाएं

जब मार्किट अपने हाई पर पहुंच जाये तोह आपको अपना मुनाफा बुक करना चाहिए। और ऐसे ही अगर शेयर मार्किट में गिरावट होती है तोह आपको थोड़ा और पैसे निवेश करने चाहिए।

मार्केट में बिना स्ट्रैटेजी के निवेश करने पर आपको नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

लम्बे समय के लिए निवेश

अगर आपको SIP में निवेश करना है तोह लम्बे समय के लिए करना होगा। क्योकि ऐसे ही आपको कम्पाउंडिंग का फायदा मिल पायेगा। आप जितने लम्बे समय के लिए निवेश करते है उतना ही आपको कम्पाउंडिंग का फायदा मिलेगा।

बाजार में उतार चढ़ाव

शेयर बाजार में उतार चढाव रहता है, जिसके कारन आपको घबराहट हो सकती है और आप निवेश करना बंद कर सकते है। ऐसे ही बोहोत लोग मंडी में निवेश करना बंद कर देते है।


SIP में रिस्क क्या है?

  • अगर आप SIP में बड़े फण्ड से निवेश करते है तोह इसमें आपको ज्यादा रिस्क होता है।
  • अगर आप किसी घाटे की कंपनी में निवेश करते है तोह आपको मुनाफा नहीं मिल पायेगा और आपके पैसे डूब सकते है।
  • अगर आप कम समय के लिए SIP में निवेश करते है तोह आपको इसमें नुक्सान भी हो सकता है।
  • दो तीन महीने में जारी SIP को तोड़ दिया जाये तोह SIP प्रक्रिया पूरी न होने के कारन नुकसान हो सकता है।
  • निवेश की गई कंपनी अचानक किसी क्राइसिस का सामना करना पड़ जाये तोह नुकसान हो जाये।

1000 की SIP

1000 रुपये प्रति माह निवेश करने से 10 साल में कितना पैसा जमा होगा

अगर आप हर महीने 1,000 रुपये दस साल तक निवेश करते है तोह आपको तोह आपका दस साल के लिए निवेश 1,20,000 रूपये होगा।

और यदि आप दस साल तक औसतन 12 फीसदी प्रतिवर्ष रिटर्न देखते है तोह आपकी निवेश की गई पूंजी बढ़कर 2,30,03 रुपये होगी।


Sharing Is Caring:

I am Vishal, the person behind this wonderful blog. I am a 22-year old blogger, Digital Marketer, SEO Expert, and Influencer from Maharashtra(Bharat)

Leave a comment